Raigar Community Website Admin Brajesh Hanjavliya, Brajesh Arya, Raigar Samaj Website Sanchalak Brajesh Hanjavliya
Matrimonial Website Link
Website Map

Website Visitors Counter


Like Us on Facebook

Raigar Community Website Advertisment
Raigar Articles

 

' नशे को शत-प्रतिशत प्रतिबँधित करे '

 

 

       पहले आदमी शराब पीता है, फिर शराब, शराब को पीती है और अंत में शराब आदमी को निगलने लग जाती है। आज गाँवों, शहरों में उत्सव, शादी-ब्याह, जन्‌म-मरणोपरांत के समारोहों में सुपारी, पान-मसाला,बीड़ी,सिगरेट,अफीम और रियाण सभी तरह के नशेड़ी तामझामो की व्यवस्था करना जरूरी है । अमीरोँ के लिए यह परंपरा शान है किंतु गरीबोँ की कमर तोड़ने का सामान है । आज ऐसा लगता है कि नशा आदमी, परिवार और जाति समाज को सुरसा की भाँति निगलने को उतारु है । सरकार को नशीली चीजों से भारी मात्रा मे कर मिलता है इसलिए वह नशे के कारण गिरते नैतिक मूल्यो और चौतरफा दूषित वातावरण को देखकर भी मौन है । ऐसे में बीमारी रहित आदमियो की पीढ़ी तैयार करना समाज का आवश्यक कार्य बन गया है । समाजहित संकल्प लेकर सब एक आवाज पुरजोर उठाए तथा रैगर समाज मे सभी तरह का नशा प्रतिबंधित कर दिया जाये । इतिहास गवाह है कि नशे से शरीर और समाज की आत्मा खोखली हुई है । नशे से लोगों की सेहत का मिजाज बदलता है । सुपारी, गुटखा, तम्बाकू, बीड़ी, सिगरेट आदि नशीली चीजों के निरंतर सेवन से कैंसर का खतरा बढ़ता है । शराब की लत से लीवर की बीमारियों में बढ़ोतरी होती है । ऐसे लोगों की तबीयत कमजोर हो जाती है । नशा गरीबोँ को बदहाली और हिकारत की और धकेलता है । नशा बच्चो की पढ़ाई, परिवार की दवाई, आदमी की सेहत और समाज की भलाई मे प्रमुख अवरोध बनकर खड़ा है । जो पैसा परिवार समाज का विकास कर सकता है वही नशे के विनाश की भेंट चढ़ जाता है । नशे को नाश की जड़ जानकर रैगर जीवन में नशा छोड़ने का संकल्प ले । समाजहित में दूरगामी सोच का परिचय देकर अखिल भारतीय रैगर महासभा भी इस ओर महत्वपूर्ण कदम उठाए । सभी सामाजिक अवसरों पर सब प्रकार के नशोँ पर शत-प्रतिशत प्रतिबँध लगा दिया जावे । इससे सुंदर,खुशहाल रेगर समाज के नव- निर्माण का सपना सच होगा । समाज विकास की ओर अग्रसर होगा ।

 

महिला शोषण - निजात कौन दिलाएगा

       समाज में महिलाएँ माँ शक्ति का जीवित रूप है । सदियों से महिला पुरुष से घर,परिवार और समाज में संयम, सहनशीलता, संवेदना, सूझबूझ और मानवीय गुणों में अग्रणी रही है । हमारा हिंदु समाज माँ दुर्गा, सरस्वती , लक्षमी की आराधना करता है । मनुष्य मनोवांछित परिणामों और खुशहाली के लिए देवी पूजा करता है । प्रातः स्मरणीय पवित्र, निर्मल और मुक्तिदायिनी माँ गंगा रैगर समाज की कुलदेवी है । युगों- युगों से इस नाशवान संसार में मनुष्य के पापों के शमन की संस्कृति माँ गंगा से आगे बढ़ी है । मनुष्य के पापचार से विलग होकर सदाचार ग्रहण करने का पथ देवनदी गंगा है । नारी शक्ति का सबसे ऊँचा प्रतीक माँ गंगा है । इतिहास सैकड़ों नारियों के बलिदान की गाथाओँ से भरा पड़ा है । नर पर नारी भारी है । अतः उसने अपना दायरा बढ़ाया, घर-परिवार के साथ-साथ समाज, शिक्षा, ज्ञान-विज्ञान, कला, संस्कृति, धर्म, अर्थ और राजनीति में महिलाओँ की संख्या बढ़ी है । यह आधी आबादी के मान-सम्मान और कुशलता के विकास का शुभ संकेत है । वर्तमान में महिलाएँ पंचायतों, नगर-परिषदों, विधानसभाओं, और संसद में अपनी क्षमताओँ से अच्छा कार्य कर रही है । किंतु आज भी विडम्बनाएँ हमें ठेंगा दिखाती है, गाँवों-शहरों में प्रति चौवन मिनट में एक महिला का बलात्कार होता है । नगरों, महानगरों, देश की राजधानी में महिलाओँ से छेड़खानी, देह शोषण के किस्से आम बात है । कमोबेश समाज में महिला शोषण की पूरी कड़ी है । अंधविश्वासी और गरीब लालन- पालन के डर, धनवान पुत्र की चाह में लिंग परीक्षण करवाकर महिला शोषण की नींव रखते है । बच्चियों को घरेलू काम के लिए अशिक्षित रखा जाता है । युवतियों को दहेज का दानव परेशान करता है । समाज में विकलांग मानसिकता वाले महिलाओँ से घर-परिवार, जाति- समाज और कार्यस्थानो पर ऊँच-नीच, भेदभाव और शोषण करते है । समाज में अनाचार, अनैतिकता का मेला है । पुरुषो का चरित्र कुछ ढीला है । इधर सरकार का नजरिया भी लचीला है । अतः समाज नारी सशक्तिकरण का प्रयास करे । आज मानवीय संस्कारवान और आत्मनिर्भर महिलाएँ ही महिला शोषण से महिलाओं को निजात दिला सकती है ।

 

raigar writerलेखक

हरीश सावित्री सुवासिया (साहित्यरत्न)

देवली कला, पाली (राज.)

 

 

raigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar point

 

Back

पेज की दर्शक संख्या : 1717