Raigar Community Website Admin Brajesh Hanjavliya, Brajesh Arya, Raigar Samaj Website Sanchalak Brajesh Hanjavliya
Matrimonial Website Link
Website Map

Website Visitors Counter


Like Us on Facebook

Raigar Community Website Advertisment
Raigar Articles

सन्त - वचन

 

P.M. Jaluthariya          स्‍वामी ज्ञान स्‍वरूपजी महाराज की एक घटना जो मैंने अपनी आँखों से देखा और कानों से सुना, मुझे आज भी याद है । हुआ यों कि एक दिन मेरा मुम्‍बई जाना हुआ । वहाँ मैं एक भाई को मिलने गया, उसी घर में स्‍वामी जी के दर्शन हो गये । उन्‍हें प्रणाम कर वहीं उनके पास बैठ गया । थोडी देर बाद में कॉलोनी से एक स्‍वामी जी को अपने घर भोजन के लिए आमंत्रित करने आया । स्‍वामी जी ने उसे बेठने का इशारा किया । प्रथम गृह स्‍वामी से बात समाप्‍त कर स्‍वामी जी ने आगन्‍तुक भक्‍त से उसका परिचय जाना । स्‍वामी जी ने उससे प्रशन किया - ''क्‍या तुम्‍हारे घर में शराब और मांस का उपयोग होता है ?'' उसने कहा -''हॉ स्‍वामी जी !'' इस पर स्‍वामी जी ने तुरन्‍त ही कहा - '' भले आदमी ! जिस घर में शराब और मांस का उपयोग होता हो, उस घर में संत केसे भोजन लेंगे ?'' आगन्‍तुक बहुत शर्मिन्‍दा होते हुए विनम्र शब्‍दों में कहा - ''स्‍वामी जी ! आज तक जो भूल हो गई, उसके लिए क्षमा चाहता हूँ । परन्‍तु आज से ही मैं इन वस्‍तुओं का त्‍याग करने की प्रतिज्ञा लेता हूँ ।'' स्‍वामी जी ने उसे बताया कि - ''चार दिन तक प्रसाद की व्‍यवस्‍था हो चुकी है अत: तुम चार दिन बाद मिलना ।'' आगन्‍तुक - जो आज्ञा स्‍वामी जी ! कह कर चला गया । स्‍वामी जी ने एक भक्‍त, जो वहीं बैठा था, इस बात की निगरानी रखने का इशारा कर दिया कि - ''देखना भाई ! उस आगन्‍तुक के घर में इन वस्‍तुओं के त्‍याग की रिपोर्ट मिलने के बाद ही स्‍वामी जी ने उसके घर भोजन ग्रहण करने की स्‍वीकृती दी ।
         कहने का तात्‍पर्य यह है कि संत-महात्‍मा, समाज को जिस दिशा में राह बतायेंगे समाज उसी दिशा में चलेगा । स्‍वामी जी के दो शब्‍दों से उसने सही राह पकड़ली ।
         स्‍वामी जी के इस छोटे से दृष्‍टांत से मुझे एक प्रेरणा मिली कि भटके हुए लोगों को केसे सही राह दिखाई जाए । उसका एक वचन ओर पढ़ा -

धर्म विचारो सज्‍जनों, बनो धर्म के दास ।
सच्‍चे मन से सभी जन, त्‍योगो मदिरा मास ।।


         स्‍वामी जी के इस उपदेश पर मैंने व्‍यसन-मुक्ति के चित्र बनवाये, जो इस प्रदर्शनी के आधार स्‍तंभ है । स्‍वामी जी के वचनों की प्रेरणा और चित्रों के दिग्दर्शनों से अनेक लोग व्‍यसनों से मुक्‍त होकर लाभान्वित हुए है तथा हो रहे हैं ।
         एक दूसरा उदाहरण भिनाय में एक सत्‍संग के दोरान देखने को मिला । एक कबीर पंथी संत ने भक्‍तों को बीड़ी-सिगरेट पीना बन्‍द करने की प्रार्थना की और कहा कि मैं तो भजन तभी सुनाउंगा जब आप लोग बीड़ी-सिगरेट पीना बन्‍द कर देंगे । इसका प्रभाव यह हुआ कि - सत्‍संग के पंडाल में आधे लोगों ने बीड़ी-सिगरेट पीना बन्‍द कर दिया और आधे लोगों में से बीड़ी-सिगरेट का धुआ उड़ता दिखाई दे रहा था ।
         तब उन्‍होने व्‍यसन-मुक्ति की प्रदर्शनी जो उसी पंडाल में एक तरफ पर्दे पर लगी हुई थी उस तरु इशारा करते हुए कहा कि -''देखो ! इस भार्इ ने कितनी मेहनत करके, ज्ञान के उपदेशों को चित्रों में उतारा है । देखो और समझो ! शायद आपके गुरू ने इतना छोटा सा ज्ञान, व्‍यसन-मुक्ति का आपकों नहीं दिया है, इसलिए आप लोग भजन-स्‍थल पर धुंआ निकाल रहे हैं । संत के इतना कहते-कहते सभी लोगों ने बीड़ी-सिगरेट बन्‍द कर दी । सन्‍त ने अपना भजन खुशी-खुशी सुनाया ! इसे कहते है ज्ञान देना एवं ज्ञान का पालन कराना । सबका भला हो ! यही संत वचन है ! ।


भव्‍वतु सव्‍व मंगल !!!

raigar writerलेखक

आसूलाल कुर्ड़िया
ब्‍यावर, राजस्‍थान

 

 

raigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar pointraigar point

 

Back

पेज की दर्शक संख्या : 1598