Raigar Community Website Admin Brajesh Hanjavliya, Brajesh Arya, Raigar Samaj Website Sanchalak Brajesh Hanjavliya
Matrimonial Website Link
Website Map

Website Visitors Counter


Like Us on Facebook

Raigar Community Website Advertisment

 

अखिल भारतीय रैगर महासभा के सविंधान में संशोधन बाबत् गठित कमेटी की रिर्पोट

 

 

       अखिल भारतीय रैगर महासभा की कार्यकारिणी की बैठक दिनांक 12.01.2012 में लिये गये निर्णयानुसार महासभा के संविधान की धारा 8 एंव इससे सम्बन्धित अन्य सभी धाराओं का अध्ययन कर प्रतिनिधि सदस्‍यों की संख्या में वृद्वि, प्रतिनिधि शुल्क, अन्य शुल्क, एंव चुनाव प्रक्रिया से सम्बन्धित संशोधन प्रस्तावित करने हेतु महासभा के पत्रांक महासभा 2012/5261 दि. 12.1.2012 के द्वारा निम्नानुसार एक कमेटी का गठन किया गया ।

       1. श्री के.एल. कमल, जयपुर अध्यक्ष
       2. श्री सुभाष वर्मा, दौसा सदस्य सचिव
       3. श्रीमति सुधा जाजोरिया,जोबनेर सदस्य
       4. श्री पी.एम. जलुथरिया, जयपुर सदस्य
       5. श्री बृजमोहन मौर्य, जयपुर सदस्य
       6. श्री इन्द्रजीत मौर्य, दिल्ली सदस्य
       7. श्री गोपाल चन्द सिंघाडिया, बीकानेर सदस्य
       8. श्री तुलसी राम मौर्य, सीकर सदस्य
       9. श्री दयाशंकर राठोडिया, अजमेर सदस्य

 

       महासभा के उक्त पत्र की अनुपालना में वांच्छित संशोधन प्रस्तावित करने हेतु कमेटी की बैठक दि. 26.1.2012, 12.2.2012, 26.2.2012 एंव 25.3.2012 को आयोजित कर सम्बन्धित सभी धाराओं का अध्ययन कर संशोधन प्रस्तावित करने हेतु विचार विमर्श किया गया । कमेटी के अध्यक्ष सहित कमेटी के सदस्य श्री गोपालचन्द सिंगाडिया- बीकानेर, श्री तुलसी राम मौर्य - सीकर, श्रीमति सुधा जाजोरिया - जयपुर, श्री इन्द्रजीत मौर्य - नई दिल्ली, श्री सुभाष वर्मा - जयपुर, श्री पी.एम. जलुथरिया - जयपुर एंव श्री बृजमोहन मौर्य - जयपुर ने अपने सुझाव लिखित/मौखिक रूप से बैठक में प्रस्तुत किये जिनको रिकॉर्ड पर लिखा गया एंव उन पर गम्भीरता वूर्वक विचार किया गया ।

       कमेटी के सदस्‍यों के अतिरिक्त भी समिति के अध्यक्ष ने विभिान्न प्रान्‍तों एंव जिलो के समाज के प्रमुख महानुभावों से दूरभाष पर वांच्छित संशोधन प्रस्तावित करने हेतु सुझाव प्राप्त किये, जिनको भी कमेटी के समक्ष प्रस्तुत किया गया । जिन महानुभावो से दूरभाष पर सुझाव प्राप्त किये गये उनमे प्रमुख है- आर.एस. सोनवाल, आई.आर.एस.नई दिल्ली, जसवन्त बारोलिया आई.आर.एस. नई दिल्ली, हरिनारायण पीपलीवाल नई दिल्ली, सोहन लाल पीपलीवाल नई दिल्ली, सी.एल. बाकोलिया, आई. आर.एस. नई दिल्ली, नारायण एम. देवतवाल गुजरात, गणेश चन्द्र आर्य मध्यप्रदेश, सीताराम रसगनिया मुम्बई, गोपाल आर्य मध्यप्रदेश, आर. के. रैगर जयपुर, सुरेन्द्र बोकोलिया चूरू, मदनलाल दौलिया अजमेर, किशन लाल खेतावत अजमेर एंव सी.एम. नवल जोधपुर । उक्त महानुभावों के सुझाव भी रिकॉर्ड पर लिये गये एंव उन पर गम्भीरतापूर्वक विचार किया गया । इस सम्बन्ध में यह भी उपयुक्त समझा गया कि संविधान में वांछित संशोधन प्रस्तावित करने हेतु आम जनता से भी सुझाव आमन्त्रित किये जावे, क्योकि यह एक समाज हित का अहम् मसला है । इस हेतु समाज के प्रमुख तीनो ही समाचार पत्रो में विज्ञप्ति प्रकाशित करवायी जाकर सुझाव आंमत्रित किये गये । यह विज्ञप्ति समाचार पत्र ‘भारत दशा’ के दि. 16.2.2012 के अंक में, समाचार पत्र ‘रघुवंशी रक्षक पत्रिका’ में दि. 11 फरवरी से 26 फरवरी के अंक में तथा ‘रैगर ज्योति’ के माह जनवरी- फरवरी 2012 के अंक में प्रकाशित हुई । विज्ञप्ति के प्रकाशन के पश्चात् निम्नलिखिति महानुभावो से लिखिति में सुझाव प्राप्त हुए ।

       1. मोहन लाल सिंवासिया अजमेर 2. किशनलाल वर्मा बून्दी 3. धन्नाराम चौहान, गजराज चौहान एंव अशोक चौहान, परबतसर (नागौर) 4. यादराम सोनवाल, कुन्दनपुरा जयपुर 5. आर. के. मौर्य कोटा 6. पन्नालाल सक्करवाल बीकानेर । इनके सुझावो को भी कमेटी के समक्ष रखा गया एंव रिकॉर्ड पर लिखा जाकर उन पर गम्भीरता पूर्वक विचार किया गया ।

       संविधान में संशोधन प्रस्तावित करने हेतु गठित कमेटी के सदस्‍योंं द्वारा दिये गये सुझाव एंव समाज के गणमान्य महानुभावो से प्राप्त सुझवों पर कमेटी द्वारा गम्भीरता पूर्वक विचार किया गया । संविधान की सम्बन्धित धाराओं का वर्तमान परिपेक्ष में गहनता के साथ अध्ययन किया गया । उक्त सभी प्राप्त सुझावो को तथा समाज की अपेक्षाओं को मध्य नजर रखते हुए कमेटी सर्व सम्मति से महासभा के संविधान की विभिन्न धाराओं में निम्नानुसार संशोधन प्रस्तावित करती है-

 

1. सामान्य संशोधन : संविधान में जहॉ जहॉ भी प्रतिनिधि शब्द उल्लिखित है, उसके स्थान पर प्रतिनिधि सदस्य अंकित किया जाना प्रस्तावित है ।

 

2. धारा - 8 : धारा - 8 में आंशिक संशोधन करते हुए इसमे वर्णित ‘ प्रादेशिक विभाजन’ का प्रावधान विलोपित किया जाकर इसके स्थान पर ‘अखिल भारतीय रैगर महासभा के प्रतिनिधि सदस्‍यों की संख्या असीमिति होगी’ किया जाना प्रस्तावित है, साथ ही धारा-8 (इ) एंव 8 (ई) के प्रवाधान भी विलोपित किया जाना प्रस्तावित है । इसके अलावा धारा 8 (1) का प्रवाधान भी विलोपित किया जा कर इसके स्थान पर यह संशोधन प्रस्तावित है कि ‘ देश के सभी प्रदेश एंव उनके जिले महासभा के क्षेत्र होगे ।’ धारा -8 (3) में वर्णित प्रावधान भी विलोपित किया जाना प्रस्तासवित है । इसके अतिरिक्त धारा 8 में दिये गये शेष प्रावधान यथावत रहेगे ।

 

3. धारा - 9 : प्रतिनिधि सदस्‍यों की योग्यताऐ- धारा - 9 में दिये गये विवरण को विलोपित किया जाकर निम्नानुसार संशोधन प्रस्तावित है ।
(1) प्रतिनिधि सदस्‍यों की योग्यताऐं :

       1. धारा - 7 के अनुसार वह महासभा का प्राथमिक सदस्य हो ।

       2. प्रतिनिधि सदस्य की आयु कम से कम 25 वर्ष हो ।

       3. वह पागल न हो दवालिया न हो एंव आदतन अपराधी घोषित न हो ।

       4. वह महासभा के लक्ष्‍यों/उद्देश्यों में आस्था रखता हो तथा महासभा के हितो को सर्वोपरि समझता हो ।

       5. प्रत्येक इच्छुक एंव पात्र व्यक्ति निर्धारित सदस्यता शुल्क जमा करा कर महासभा का प्रतिनिधि सदस्य बन सकेगा ।

       6. महासभा के प्रतिनिधि सदस्य केन्द्रीय स्तर एंव जिला स्तर पर बनाये जावे, जिनका सम्पूर्ण रिकॉर्ड एंव निधारित राशि मय सदस्य सुची के केन्द्रीय कार्यालय में भिजवाई जावे । प्रतिनिधि सदस्‍यों का इकजाई रजिस्टर केन्द्रीय स्तर पर संधारित किया जावे । प्रतिनिधि सदस्‍यों की सदस्याता शुल्क राशि में से 25 प्रतिशत राशि जिला स्तर पर एंव देश में जहॉ जिलास्तर कार्यकरिणी गठित न हो, वहॉ प्रदेश स्तर पर रहेगी । शेष 75 प्रतिशत राशि केन्द्रीय कार्यलय में प्रत्येक त्रैमासिक अवधि में सदस्यता सूची एंव विवरण के साथ भिजवाई जावे । उपरोक्त समस्त रिकॉर्ड प्रत्येक प्रदेश/जिला स्तर पर भी संधारित किया जावेगा ।

(2) प्रतिनिधि सदस्‍यों का वर्गीकरण : प्रतिनिधि सदस्य दो प्रकार के होगे -

       1. त्रैवार्षिक प्रतिनिधि सदस्य

       2. आजीवन प्रतिनिधि सदस्य
(3) प्रतिनिधि सदस्‍यों से लिया लाने वाला शुल्क : त्रैवार्षिक सदस्‍यों कि लिए रू. 500/- एंव आजीवन सदस्‍यों के लिए रू. 1100/- सदस्यता शुल्क देय होगा । त्रैवार्षिक सदस्यता महासभा के एक चुनाव तक वैध होगी । यदि वह आगे भी प्रतिनिधि सदस्य रहने का इच्छुक हो तो उसे पुनः सदस्यता ग्रहण करनी होगी ।


4. धारा -10(ईं) : धारा - 10 (ई) में यह प्रावधान है कि ‘ प्रत्येक प्रतिनिधि को एक रूपया वार्षिक शुल्क देना होगा’ यह प्रवाधान वर्तमान में प्रासंगिक नही है, अतः इसे विलोपित किया जाना प्रस्तावित है ।

5. धारा -11 :

       (1) धारा मे वर्तमान प्रावधान के स्थान पर निम्नानुसार संशोधन किया जाना प्रस्तावित है- ‘प्रतिनिधि सदस्‍यों का समूह ‘आमसभा’ कहलायेगा जो सर्वोपरि सता होगी । महासभा की कार्यकरिणी सभा ‘आमसभा’ के प्रति उतरदायी होगी ।

       (2) धारा - 11 (अ) के प्रावधान विलोपित किया जाना प्रस्तावित है । क्योंकि इसमें प्रतिनिधिमण्डल के कार्यकाल में वृद्वि होने का प्रावधान है, जो अब प्रासांगिक नही है ।

       (3) धारा - 11(ई) : इसमें आंशिक संशोधन किया जाकर, इसमें उल्लेखित धारा 12 (अ) के स्थान पर धारा 11 (अ) किया जावे । शेष प्रावधान यथावत रहेगे ।

 

6. धारा - 14 :
(1) धारा 14 में महासभा के विभिन्न पदाधिकारियों के पद नाम उल्लेखित है उनमे निम्ननुसार संशोधन किया जाना प्रस्तावित है ।

क्र.सं. वर्तमान पद का नाम प्रस्तावित संशोधित पद नाम
1. प्रधान राष्ट्रीय अध्यक्ष
2. उपा प्रधान राष्ट्रीय उपाध्यक्ष
3. प्रधानमंत्री राष्ट्रीय महासचिव
4. मंत्री राष्ट्रीय सचिव
5. उपमंत्री राष्ट्रीय उप सचिव
6. प्रचार मंत्री राष्ट्रीय प्रचार व प्रसार मंत्री
7. कोषाध्यक्ष राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष
8. कार्यकारिणी सदस्य राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य

 

       (2) धारा - 14 (अ) : इस धारा में आंशिक संशोधन करते हुए मनोनयन पत्र की कीमत रू. 50 निर्धारित किया जाना प्रस्तावित है तथा चुनाव में खडे होने वालें विभिन्न पदो के प्रत्याशियो के लिए जो शुल्क निर्धारित किया हुआ है उसमें निम्नानुसार संशोधन किया जाना प्रस्तावित है ।

क्र.सं. पद नाम वर्तमान निर्धारित शुल्क प्रस्तावित शुल्क
1. प्रधान (राष्ट्रीय अध्यक्ष) 51 रु. 11000 रु
2. उपप्रधान (राष्ट्रीय उपाध्यक्ष) 15 रु 5100 रु.
3. प्रधानमंत्री(राष्ट्रीय महासचिव) 10 रु. 5100 रु.
4. कोषाध्यक्ष (राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष) 5 रु. 2500 रु.
5. मंत्री (राष्ट्रीय सचिव) 5 रु. 2500 रु.
6. प्रसार मंत्री (रा. प्रसार मंत्री) 5 रु. 2500 रु.
7. उपमंत्री (राष्ट्रीय उपमंत्री) 5 रु. 2100 रु.
8. सदस्य कार्यकारिणी 5 रु. 500 रु.

 

       (3) धारा - 14 (आ) में संशोधन करते हुए निम्न सशोधन प्रस्तावित है ‘ यदि किसी पद का उम्मीदवार निर्धारित अवधि में अपनी उम्मीदवारी से नाम वापिस लेता है तो नांमाकन शुल्क वापिस लौटाया जाना प्रस्तावित है ।

       (4) धारा 14 (1) यथावत

       (5) धारा 14 (1) (ए) नया जोडा जाना है प्रावधान-अखिल भारतीय रैगर महासभा की कार्यकरिणी के चुनाव मतदताओं की संख्या एंव तत्कालीन परिस्थितियों को मध्यनजर रखते हुए, केन्द्रीय स्तर, प्रादेशिक स्तर, सम्मागीय स्तर व जिला स्तर पर किये जा सकेगे, ऐसा निर्णय लेने का पूर्ण रूपेण अधिकार तत्समय कार्यरत कार्यकारिणी का होगा । ’

       (6) धारा - 14 (2) से धारा - 14 (10) तक यथावत है ।

       (7) धारा - 14 (10) (आ) : इसमें प्रत्येक पदाधिकारी एंव कार्यकारिणी सदस्‍यों को क्रमश रूपये 10 एंव रू.5 वार्षिक शुल्क देने प्रावधान है । इसे विलोपित किया जाना प्रस्तावित है ।


7. धारा - 16 (आ) : धारा - 16 (आ) में आशिंक संशोधन किया जाकर ‘कार्यकरिणी समिति के सदस्‍यों के रिक्त स्थानो की पूर्ति कार्यकरिणी समिति ही करेगी’ किया जाना प्रस्तावित है ।

 

8. धारा - 17 (उ) : धारा - 17 (उ) में प्रधान (राष्ट्रीय अध्यक्ष) को तात्कालिक आवश्यक व्यय के लिए एक माह में 100 रू. बिना कार्यकरिणी की स्वीकृति के व्यय करने का अधिकार है । इसमें संशोधन किया जाकर इस राशि को 1000/- किया जाना प्रस्तावित है शेष भाग यथावत रहेगा ।

 

9. धारा - 19 (आ) : धारा - 19 (आ) में प्रधानमंत्री (राष्ट्रीय महासचिव) को बिना कार्यकरिणी या प्रधान से पहले आज्ञा लिए केवल 50/- मासिक व्यय करने का अधिकार है । इसमे संशोधन किया जाकर रू. 500/- किया जाना प्रस्तावित है । धारा के शेष प्रावधान यथावत रहेगे ।

 

10. धारा - 21(इ) में कोषाध्यक्ष को कार्यकरिणी के आदेशानुसार 200/-रू. से अधिक धन को किसी निर्धारित बैंक,डाकघर या बैंकर के पास जमा कराना होता है, इसके स्थान पर निम्न प्रकार संशोधन प्रस्तावित है ‘कोषाध्यक्ष 1000/- रु. तक की राशि रोकड शेष रख सकेगा इससे अधिक राशि किसी निर्धारित बैंक, डाकघर या बैकर के पास तात्काल जमा करायेगा ।

 

11. धारा - 23 : अखिल भारतीय रैगर महासभा की प्रादेशिक, जिला एंव तहसील ब्लाक इकाईयों का गठन धारा - 23 के प्रावधित स्वरूप को सशोधित करनास प्रस्तावित है जो निम्न प्रकार होगा -

       ‘देश के प्रत्येक प्रदेश, जिले एंव तहसील/ ब्लाक में अखिल भारतीय रैगर महासभा की शाखाऐं होगी जो अखिल भारतीय रैगर महासभा की प्रदेश, जिला एंव तहसील/ब्लाक ईकाईयोंं के नाम से नामित होगी ।’
       धारा - 23 (अ) : प्रत्येक प्रदेश, जिला, तहसील/ब्लाक ईकाईयोंं के निम्न पदाधिकारी होगे ।
1 प्रदेश, जिला व तहसील/ब्लाक अध्यक्ष - एक पद
2 ’’ ’’ ’’ ’’ उपाध्यक्ष - दो पद
3 ’’ ’’ ’’ ’’ महासचिव - एक पद
4 ’’ ’’ ’’ ’’ सचिव - दो पद
5 ’’ ’’ ’’ ’’ संगठन मंत्री - दो पद
6 ’’ ’’ ’’ ’’ प्रचार मंत्री - दो पद
7 ’’ ’’ ’’ ’’ कोषाध्यक्ष - एक पद
8 ’’ ’’ ’’ ’’ कार्यकरिणी सदस्य - ग्यारह पद

       धारा - 23 (आ) : प्रत्येक प्रदेश, जिला एंव तहसील/ब्लाक के पदाधिकारियों का चुनाव मनोनयन सम्बन्धित प्रदेश जिले एंव तहसील / ब्लाक के प्रतिनिधि सदस्‍यों द्वारा किया जावेगा ।

       धारा - 23 (इ) : प्रदेश , जिला एंव तहसील/ब्लाक ईकाईयों के पदाधिकारियों एंव कार्यकरिणी सदस्‍यों का कार्यकाल धारा 37 के अनुरूप होगा ।

       धारा - 23 (ई) : प्रदेश, जिला एंव तहसीन/ब्लाक ईकाईयों के पदाधिकारियों एंव आयोजन प्रयोजनों की सूचना समय समय पर राष्ट्रीय कार्यकारिणी को प्रेषित करना होगी ।

       धारा - 23 (ड) : प्रदेश, जिला एंव तहसील/ब्लाक ईकाईयों राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सामान्य निमंत्रण एंव सुपरविजन में कार्य करेगी ।

       धारा - 23 (ऊ) : प्रदेश, जिला एंव तहसील/ब्लाक ईकाईयों राष्ट्रीय कार्यकरिणी के प्रस्तावों, निर्देशों का क्रियान्वयन सुनिश्चित करेगी ।

       धारा - 23 (ए) : प्रत्येक प्रादेशिक एंव जिला इकाईयों को राष्ट्रीय कार्यकारिणी से अनुमोदन पत्र प्राप्त करना होगा ।

       धारा - 23 (ऐ) : यदि कोई प्रादेशिक सभा अखिल भारतीय रैगर महासभा के विधान नीति पारित प्रस्तावों तथा आदेशों के प्रतिकूल कार्य करेगी तो अखिल भारतीय रैगर महासभा की कार्यकरिणी समिति को अधिकार होगा कि वह ऐसी प्रादेशिक सभा को निलम्बित कर दे महासभा के कार्यो को चालू रखने के लिए उस प्रदेश में एक तदर्थ समिति की स्थापना कर दे ।

       धारा - 23 (ओ) : विलोपित किया जाना प्रस्तावित है ।

 

12. धारा - 35 : धारा - 35 में प्रावधान है कि किसी के निर्वाचन पर आपति हो तो उस व्यक्ति के निर्वाचन घोषणा के एक माह की अवधि में तत्सम्बन्धी चुनाव याचिका आवश्यक तथ्यों, लेख्य, पत्रो और 10 रू. शुल्क के साथ चुनाव न्यायाधीकरण के पास भेज देने होगे । इसमें उल्लेखित शुल्क राशि रू.10 के स्थान पर 250रू. किया जाना प्रस्तावित है । शेष प्रावधान यथावत रहेगे ।

 

13. धारा - 36 : धारा - 36 को विलोपित किया जाना प्रस्तावित है । इसमें प्रत्येक प्रादेशिक सभा को रू. 5 शुल्क जमा कराकर अखिल भारतीय रैगर महासभा से मान्यता प्रमाण पत्र लेने का प्रावधान है जिसकी अब प्रासंगिकता नही है ।

 

14. धारा - 37 (राष्ट्रीय, प्रादेशिक, जिला एंव तहसील/ ब्लाक की कार्यकरिणी का कार्यकाल) : अखिल भारतीय रैगर महासभा की राष्ट्रीय, प्रादेशिक, जिले एंव तहसील/ब्लाक कार्यकरिणी के सभी पदाधिकारियों एंव कार्यकरिणी सदस्‍यों का कार्यकाल तीन वर्ष का होगा । यदि तीन वर्ष की अवधि में किसी कारणवश चुनाव नही हो सके तो यह अवधि प्रथमतः 6 माह एंव द्वितीयतः 3माह ओर बढायी जा सकती है परन्तु इस वर्धित अवधि में पदाधिकारियों एंव कार्यकरिणी का निर्वाचन अनिवार्य रूप से होना आवश्यक होगा अन्यथा समस्त पदाधिकारियों , अध्यक्ष सहित स्वतः पदच्युत हो जायेगे ।

 

 

 

के. एल. कमल

अध्यक्ष - संविधान संशोधन समिति

(साभार :- रैगर ज्‍योति (मासिक पत्रिका), अंक जून 2012, बाड़मेर)

 

पेज की दर्शक संख्या : 1605