Menu
Back
Sansad

      सौभाग्‍य से स्‍वतंत्रता प्राप्‍ति के बाद लोकसभा में रैगर जाति का प्रतिनिधित्‍व सदैव रहा है । सन् 1952 में श्री नवल प्रभाकरजी ने दिल्‍ली से लोकसभा का चुनाम लड़ा और सम्‍पूर्ण भारत में सर्वाधिक मतों से जीत हासिल की । सन् 1957 में पुन: लोकसभा के सदस्‍य चुने गए । सन् 1962 में हुए लोकसभा चुनावों में श्री नवल प्रभाकरजी तीसरी बार लोकसभा सदस्‍य चुने गए और दिल्‍ली में सर्वाधिक मतों से जीते । श्री धर्मदास शास्‍त्री 1980 में करोल बाग से लोकसभा का चुनाव लड़ा और भारी मतों से चुने गए । श्री विरदाराम फुलवारिया ने सन् 1980 में हुए लोकसभा चुनावों में जालोर (राजस्‍थान) से चुनाव लड़ा और भारी मतों से जीते । श्रीमती सुन्‍दरवती नवल प्रभाकर करोलबाग दिल्‍ली से लोकसभा की सदस्‍या रही है । रैगर सांसदों की सूची निम्‍नानुसार है-

 

क्र. सं. नाम क्षेत्र
1. श्री नवल प्रभाकर करोलबाग-दिल्‍ली
2. श्री धर्मदास शास्‍त्री करोलबाग-दिल्‍ली
3. श्रीमती सुन्‍दरवती नवल प्रभाकर करोलबाग-दिल्‍ली
4. श्री शिवनारायण सरसुणिया करोलबाग-दिल्‍ली
5. श्री विरदाराम फुलवारिया जालोर-दिल्‍ली

 

(साभार- चन्‍दनमल नवल कृत 'रैगर जाति : इतिहास एवं संस्‍कृति')

 

पेज की दर्शक संख्या : 1588