रैगर समाज बहुत लम्‍बे समय से पिछड़ा हुआ रहा है । जिसको मेहनत मजदूरी कर अपना पेट रोजाना भरना पड़ता था । लेकिन अब धीरे-धीरे स्थिति सुधरने लगी है । आज हमारे समाज ने अपनी राजनैतिक जड़े मजबूत कर ली है ओर रैगर समाज के बंधुओं ने ग्राम पंचायत से लेकर मंत्री पद तक अपनी दावेदारी साबित की है और समाज का गौरव बढाया है ।
स्‍वतंत्रता प्राप्‍ति से पूर्व श्री भोलाराम तोंणगरिया हैदराबाद (सिंध) में म्‍युनिसिपल कमिशनर रह चुके हैं । श्री खूबराम जाजोरिया दिल्‍ली चीफ कमिशनर के सलाहकार तथा श्री सूर्यमल मौर्य अजमेर चीफ कमिशनर की सलाहकार समिति के सदस्‍य रह चुके हैं । श्री कज्‍जूलाल जाजोरिया सन् 1964 में जोबनेर नगरपालिका के अध्‍यक्ष निर्वाचित हुए हैं । कई रैगर राजस्‍थान में विभिन्‍न नगरपालिकाओं के पार्षद रह चुके हैं तथा कई वर्तमान में सदस्‍य हैं । श्री बंशीलाल आर्य (जोधपुर), श्री मिश्रीलाल मालवीय (जोधपुर), श्री भीकाराम फलवा‍ड़िया (बाड़मेंर), श्री बसंतीराम बाकोलिया (बाड़मेर), श्री छगनलाल जाटोलिया (बाड़मेर), श्री मिश्रीलाल चौहान (पीपाड़), श्री मिश्रीलाल खटनावलिया (पीपाड़), श्री भीमराज नवल (पाली), श्री मगाराम (चुरू) त‍था श्री केशरीमल जाटोलिया (बालोतरा) नगरपालिका के सदस्‍य रहे हैं । श्री केशरीमल जाटोलिया 27 वर्षों तक नगरपालिका बालोतरा के सदस्‍य समिति के अध्‍यक्ष रहे हैं । कई ग्राम पंचायतों के सरपंच भी निर्वाचित हुए हैं । रामचन्‍द्र धोलखेड़िया-बीकानेर, श्री सीताराम मौर्य-भाण्‍डारेज, श्री गिरधारीलाल मौर्य खरकड़ा, श्री जगन्‍नाथ मोरलिया-देवली तथा श्री प्रभुदयाल सबल कोटड़ी ग्राम पंचायत के सरपंच चुने जा चुके हैं । इस तरह रैगर जाति के लोग सरपंच से लेकर केबीनेट मंत्री तक रहे हैं ।

 

दिल्‍ली महानगर परिषद/विधानसभा
(Delhi, Metropolitan Council/State Assembly)



वर्ष  नाम  पार्टी  सदस्‍य/मंत्री
1952-1955 श्री दयाराम जलुथरिया कांग्रेस सदस्‍य
1967-1972 श्री शिवनारायण सरसुनिया भारतीय जनसंध सदस्‍य
1972-1977 श्री मोतीलाल बाकोलिया कांग्रेस सदस्‍य
1977-1982 श्री मोतीलाल बाकोलिया कांग्रेस सदस्‍य
1977-1982 श्री भौरेलाल शास्‍त्री कांग्रेस सदस्‍य
1977-1982 श्रीमती सुन्‍दरवती नवल प्रभाकर कांग्रेस सदस्‍य
1983-1988 श्री मोतीलाल बाकोलिया कांग्रेस सदस्‍य
1993-1998 श्री सुरेन्‍द्रपाल रातावाल भाजपा मंत्री
1998-2003 श्री मोतीलाल बाकोलिया कांग्रेस सदस्‍य
2003-अब तक श्री सुरेन्‍द्रपाल रातावाल भाजपा विधायक

 

दिल्‍ली नगरपालिका / नगर निगम  पार्टी  सदस्‍य
1954-1957 श्री गौतम शक्‍करवाल कांग्रेस सदस्‍य
1957-1962 श्री दयाराम जलुथरिया कांग्रेस सदस्‍य
1962-1967 श्री खूबराम कांग्रेस सदस्‍य
1967-1975 श्री गोपालकृष्‍ण रातावाल जनसंध सदस्‍य
1975-1980 श्री लक्ष्‍यमणसिंह अटल जनसंध सदस्‍य
1983-1988 श्री खुशालचन्‍द मोहनपुरिया कांग्रेस सदस्‍य
1985-1990 श्री हेमचन्‍द्र माहनपुरिया कांग्रेस सदस्‍य
1997-2002 श्रीमती मीरां कंवरिया भाजपा महापौर
1997-2002 श्री धर्मपाल अटल भाजपा सदस्‍य
2002-अब तक श्री योगेन्‍द्र चांदोलिया भाजपा अध्‍यक्ष
2002-2012 श्री तुलसीराम सबलानिया कांग्रेस निगम पार्षद
2006-2007 श्रीमती मीरां कंवरिया भाजपा महापौर
2007-अब तक श्री सुरज कुमार कुर्डिया भाजपा निगम पार्षद, करोलबाग जोन के अध्‍यक्ष
2007-2012 श्री हरिश सुवासिया कांग्रेस निगम पार्षद
2012-अब तक श्रीमति भूमि रछोया कांग्रेस निगम पार्षद
2012-अब तक श्रीमति पार्वती दिगवाल बी.एस.पी. निगम पार्षद

श्रीमती मीरां कंवरिया रैगर समाज की पहली महिला है जो सन् 1997-2000 में दिल्‍ली नगर निगम की महापौर रही है ।
श्री मोतीलाल बाकोलिया रैगर समाज के पहले व्‍यक्ति हैं जो दिल्‍ली महानगर परिषद तथा दिल्‍ली विधान सभा के कुल मिलाकर चार बार सदस्‍य रहे हैं ।

 

(साभार- चन्‍दनमल नवल कृत ‘रैगर जाति : इतिहास एवं संस्‍कृति’)

  सम्‍पूर्ण भारत में रैगरों की जनसंख्‍या 50 लाख है । इतनी जनसंख्‍या होने के बावजूद भी 1981 से पहले रैगरों को सम्‍पूर्ण भारत में कहीं भी मंत्री मण्‍डल में प्रतिनिधित्‍व नहीं दिया गया । पहली बार 1981 में राजस्‍थान में मंत्री मण्‍डल में रैगरों को प्रतिनिधित्‍व मिला । श्री शिवचरण माथुर के मंत्री मण्‍डल में श्री छोगालाल कंवरिया को केबिनेट मंत्री के रूप में नियुक्‍त किया गया । इनको चिकित्‍सा एवम् स्‍वास्‍थ्‍य जैसा महत्‍वपूर्ण विभाग सौंपा गया । ये जब तक मंत्री पद पर रहे इन्‍होंने विभाग को बहुत ही कुशलता से चलाया । श्री छोगालाल कंवरिया के मंत्री मण्‍डल से हटने के बाद श्री छोगाराम बाकोलिया को राजस्‍थान के मंत्री मण्‍डल में सम्मिलित किया गया । श्री सुरेन्‍द्रपाल रातावाल सन् 1993 में दिल्‍ली विधान सभा के सदस्‍य चुने गए और भाजपा मंत्रीमण्‍डल में केबीनेट मंत्री बनाये गये । उन्‍हें श्रम, पर्यटन एवं अनु‍सूचित जाति जनजाति कल्‍याण विभाग दिया गया । श्री सुरेन्‍द्रपाल रतावाल रेगर समाज के पहले व्‍यक्ति हैं जो दिल्‍ली विधान सभा में केबीनेट मंत्री रहे हैं ।

श्री छोगाराम बाकोलियाChogaram Bakoliya      आपका जन्‍म श्री जयराम बाकोलिया निवासी बाड़मेर के घर 1 जनवरी, 1944 में हुआ । आपने पोलोटेक्निक जोधपुर से मैकेनिक इंजिनियरिंग में डिप्‍लोमा किया । 1965-76 तक कनिष्‍ट अभियन्‍ता राजस्‍थान राज्‍य विद्युत मण्‍डल में नियुक्‍त रहे । पदोन्‍नत होकर 1976 से मई 1980 तक आपने सहायक अभियन्‍ता के पद पर कार्य किया । 1980 में स्‍वैच्‍छा से सहायक अभियन्‍ता के पद से त्‍याग पत्र देकर कांग्रेस (ई) के के सदस्‍य बन गये और रेवदर (सिरोही) से विधानसभा का चुनाव जीत कर प्रथम बार विधायक बने । आप 1981 में राज्‍य नियोजन सलाहकार समिति के सदस्‍य रहे तथा राजस्‍थान हाथ करघा परियोजना मण्‍डल के अध्‍यक्ष रहे । अखिल भारतीय अनुसूचित जाति परिष्‍द् की राजस्‍थान शाखा के सचिव तथा निदेशक मण्‍डल राजस्‍थान राज्‍य पथ परिवहन निगम एवम् बोर्ड ऑफ डायरेक्‍टर राजस्‍थान अनुसूचित विकास मण्‍डल के सदस्‍य रहे । सिरोही जिला शाखा के उपाध्‍यक्ष रहे । खाद्य एवम् कृषि संगठन के विशिष्‍ठ कार्यक्रम के अन्‍तर्गत सियोज (दक्षिण) कोरिया, टोकियो, ओसाका (जापान), हांगकांग, बैंकाक (थाईलैण्‍ड), सिंगापुर आदि देशों में आपको भारत सरकार द्वारा भेजा गया । 1981-82 में आप अनुसूचित जाति कल्‍याण समिति के सदस्‍य रहे । सिंचाई, जन स्‍वास्‍थ्‍य अभियांत्रिकी, राजस्‍व एवम् भूमि सुधार, ऊर्जा, बाढ़ एवम् अकाल राहत विभागों की संसदीय परामर्शदात्री समिति के आप सदस्‍य रहे । 16-10-1982 से 1985 तक आप ऊर्जा, समाज कल्‍याण एवम् भू-जल विभाग के उपमंत्री रहे । 1985 में रेवदर (सिरोही) से आप दौबारा विधान सभा सदस्‍य चनु कर आए । 11-03-1985 से 15-10-1985 तक आप राज्‍य मंत्री रहे तथा 16-10-1985 से आपको केबीनेट मंत्री बनाया गया । आपको खाद्य एवम् आपूर्ति विभाग सौंपा गया । वर्ष 1998 में ग्‍यारवीं विधान सभा में आप रेवदर (सिरो‍ही) से तीसरी बार विधान सभा सदस्‍य चुने गए । मुख्‍यमंत्री श्री अशोक गहलोत ने अपने मंत्रीमण्‍डल में आपको केबीनेट मंत्री के रूप में सामिल किया और यातायत विभाग की जिम्‍मेदारी सौंपी । आपको जो भी विभाग सौंपा गया उसको कुशलतापूर्वक चलाया है । आप प्रान्‍तीय रैगर महासभा, जयपुर के अध्‍यक्ष रहे ।

(साभार- चन्‍दनमल नवल कृत ‘रैगर जाति : इतिहास एवं संस्‍कृति’)

Line

श्री छोगालाल कंवरिया

Choga Lal Kanwariya      आपका जन्‍म प्रतापमल कंवरिया निवासी ब्‍यावर के घर 12 अप्रेल 1922 में हुआ । आपने बी.एस.सी. तथा एल.एल.बी. अजमेर से की । आप डिप्रेस्‍ड क्‍लास एशोसियेशन अजमेर के महांत्री रहे व अखिल भारतीय डिप्रैस्‍ड क्‍लास लीग व कांग्रेस के सदस्‍य रहे । 1952 में आपने राजस्‍थान प्रशासनिक सेवा में प्रवेश किया । 2 वर्ष तक तहसीलदार, 4 वर्ष तक मजिस्‍ट्रेट प्रथम श्रेणी, 5 वर्ष तक विकास अधिकारी, 7 वर्ष तक एस.डी.एम. 1 वर्ष उपनिदेशक स्‍वायत्‍तशासन, 2 वर्ष उपनिदेशक समाज कल्‍याण, 2 वर्ष विकास उपायुक्‍त, 1 वर्ष सैटलमेंट ऑफिसर, 1 वर्ष उप आयुक्‍त वाणिज्‍य (अपील) रहे । सभी पदों पर आपने बहुत ही कुशलतापूर्वक कार्य किया । 1977 में आपने स्‍वैच्छिक सेवा निवृत्ति ले ली और कांग्रेस (ई) के सक्रिय सदस्‍य बन गये । आप अमेजर जिला देहात कांग्रेस (ई) के महामंत्री रहे । 1980 में हुए विधानसभा चुनावों में आप दूदू (सु) क्षेत्र में कांग्रेस (ई) से राजस्‍थान विधानसभा के सदस्‍य चुने गये । 1981 में आप राजस्‍थान राज्‍य टेनेरीज लि. के अध्‍यक्ष रहे । आप राजकीय उपक्रम समिति के 1980 में सदस्‍य रहे । 1983-84 में सरकारी आश्‍वासनों सम्‍बंधी समिति के सदस्‍य रहे । 1983-84 में विशषाधिकार समिति के आप सदस्‍य रहे । चिकित्‍सा एवम् स्‍वास्‍थ्‍य, परिवार कल्‍याण, आयुर्वेद विभागों की संसदीय परापर्श समिति के आप सभापति रहे । 19-07-1981 से 16-10-1982 तक आप राजस्‍थान सरकार में चिकित्‍सा एवम् स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री रहे । आप अखिल भारतीय रैगर महासभा के अध्‍यक्ष भी रहे । आप राजस्‍थान में ही नहीं सम्‍पूर्ण भारत में पहले रैगर हैं जो विधायक से सीधे केबीनेट मंत्री बने । आपके मंत्री बनने से रैगर जाति का नाम ऊँचा हुआ है ।

(साभार- चन्‍दनमल नवल कृत ‘रैगर जाति : इतिहास एवं संस्‍कृति’)

Line

श्री सुरेन्दपाल रातावालSurendra Pal Ratawal       इतिहास उसका बनता हैं, जो औंरों के दिलों को अपनी सौरभ से सुवासित कर दे । जिसके रोम-रोम में विकास की धारा एवं प्रगतिशील विचारों का वास हो, वो शक्स हर दिल में राज करता है । कर्मठ, मधुरभाषी, निर्भीक, सहासी, देश भक्त एवं भारतीय संस्कृति के मूल्यों में सम्पूर्ण आस्था रखने वाले निर्भिक सहासी नेता श्री सुरेन्द्रपाल रातावाल का जन्म दिल्ली के करोल बाग में राजनैतिक चेतना एवं समाज सेवा की परम्परा वाले प्रतिष्ठित रैगर परिवार में हुआ । उन्हे सामाजिक एवं राजनैतिक जीवन की स्वस्थ्य परम्परा अपने पिता जाने माने समाजसेवी एवं सार्वजनिक जीवन के प्रतिद्ध नेता स्व. बाबू गोपालकृष्ण रातावाल से प्राप्त हुई । आप दिल्ली रैगर समाज के प्रथम व्यक्ति है जो दिल्ली विधान सभा में श्रम, पर्यटन एवं अनुसूचित जाति जन जाति कल्याण विभाग के केबीनेट मंत्री रह कर रैगर समाज को गौरवान्वित किया तथा वर्तमान में करोल बाग विधायक के रुप में रैगर समाज का गौरव बढ़ा रहे है ।
श्री रातावाल की प्रारंभिक शिक्षा गुरुकुल इन्द्रप्रस्थ में हुई । उच्च शिक्षा दिल्ली विश्वविद्यालय से स्नातक (बी.ए.) की डिग्री प्राप्त की । छात्र जीवन में ही श्री रातावाल छात्र कल्याण एवं सार्वजनिक जीवन में सक्रिय हो चुके थे । वर्ष 1972-73 में आप अपनी प्रतिभा एवं व्यक्तित्व गुणों के कारण किरोड़ीमल कॉलेज (दिल्ली विश्व विद्यालय) छात्र संघ के अध्यक्ष पद के लिए चुने जाने वाले प्रथम दलित छात्र नेता थे । पहले आप भारतीय युवा सघ और बाद में भारतीय जनता पार्टी युवा मौर्चा के संयोजक पद की जिम्मेदारी को निभाते हुऐ श्री रातावाल ने करोल बाग क्षेत्र की समस्याओं के समाधान के लिए प्रशासन, दिल्ली पुलिस एवं नगर निगम से सदैव संघर्ष किया। कई शैक्षणिक संस्थाओं से भी जुड़े रहे । शिक्षा के क्षेत्र में आप सक्रिय रुप से भूमिका निभाई । जनता की नागरिक समस्याओं के निवारण के लिए जूझते हुए आप अनेक बार जेल भी गए । महिलाओं पर होने वाले अत्याचारों के विरुध भी अनेकों बार प्रदर्शन किये ।
प्रखर मेघा के धनी एवं विलक्षण व विराट प्रतिभा संपन्न श्री रातावाल वर्ष 1985 से 1989 तक दिल्ली प्रदेश भारतीय जनता पार्टी के मंत्री रहे तथा 1989 से 1993 तक प्रदेश उपाध्यक्ष रहकर क्षेत्र की समस्याओं के लिए सघर्षशील रहे परिणाम स्वरुप आप सन् 1993 में करोल बाग के विधायक निर्वाचित होकर दिल्ली सरकार में मंत्री रहे । श्री रातावाल ने समाज कल्याण, अनुसूचित जाति/जन जाति कल्याण एवं पर्यटक जैसे जन कल्याण से संबंधित महत्वपूर्ण मंत्रालय का कार्यभार बड़े ही आत्म विश्वास से संभाला । आप मंत्री रहते हुए जनता से पूरी तरह जुड़े रहे व समस्याओं पर पूरा ध्यान दिया । इन्ही सेवाओं को मान्यता देते हुए क्षेत्र की जनता ने एक विशेष नागरिक समारोह में आपको करोल बाग रत्न की उपाधी से सम्मानित किया । आप अपने कार्यकाल में वृद्धावस्था पेंशन में वृद्धि व क्षय रोगियों के आर्थिक सहायता राशि 360 से बढ़ाकर 1200 रुपये वार्षिक की गई । विधवाओं को प्रति वर्ष 10000 हजार सहायता दिलाने में महत्वपूर्ण योगदान दिया । महिलाओं की उन्नति के लिए महिला विकास निगम की स्थापना। समाज के आर्थिक और सामाजिक दृष्टि से पिछड़े अनुसूचित जातियों/जनजातियों के लोगों के जीवन स्तर को ऊंचा उठाने के लिए श्री रातावाल जी ने कई कल्याणकारी योजनाएं शुरु कर अपनी विशाल उदारता का परिचय दिया है । आपको 14 अप्रेल 2008 को अम्बेडकर जयन्ती के अवसर पर सर्वश्रेष्ठ विधायक का विशेष पुरस्कार से चौधरी प्रेमसिंह ने रातावाल को शॉल ओढ़ाकर सम्मानीत किया और दिल्ली के उपराज्यपाल महामहीम श्री तेजेन्द्र खना ने रातावाल को दिल्ली विधानसभा का मोमेन्टो प्रदान किया ओर लोकसभा के पूर्व अध्यक्ष सोमनाथ चटर्जी ने दिल्ली विधानसभा का प्रशंसी पत्र एवं एक लाख रुपये का चेक प्रदान किया । दिल्ली की मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ने बुका देकर आपका सम्मान किया ।
श्री रातावालजी सन् 2003 पुनः करोल बाग के विधायक निवाचित हुए । आपके सामाजिक कार्य व मानव सेवा समर्पित भावनाओं को देखते दिल्ली विधानसभा में आपको नेता उप पतिपक्ष दिल्ली सरकार चुने गये । जो रैगर समाज के लिए गौरव की बात है । विराट व्यक्तित्व के धनी श्री रातावाल के हंसमुख स्वभान, मिलनसारिता, व उदार हृदय के आज भी हर जन कायल हैं । समाज सेवा, मानव सेवा में रुचि रखने वाले श्री रातावाल की इच्छा राजनैतिक क्षेत्र के माध्यम से हर वर्ग की सहायता व सहयोग के प्रति समर्पित रहना है ।

 

(साभार- गोविन्‍द जाटोलिया : सम्‍पादक ”रैगर ज्‍योति”)

Line

सौभाग्‍य से स्‍वतंत्रता प्राप्‍ति के बाद लोकसभा में रैगर जाति का प्रतिनिधित्‍व सदैव रहा है । सन् 1952 में श्री नवल प्रभाकरजी ने दिल्‍ली से लोकसभा का चुनाम लड़ा और सम्‍पूर्ण भारत में सर्वाधिक मतों से जीत हासिल की । सन् 1957 में पुन: लोकसभा के सदस्‍य चुने गए । सन् 1962 में हुए लोकसभा चुनावों में श्री नवल प्रभाकरजी तीसरी बार लोकसभा सदस्‍य चुने गए और दिल्‍ली में सर्वाधिक मतों से जीते । श्री धर्मदास शास्‍त्री 1980 में करोल बाग से लोकसभा का चुनाव लड़ा और भारी मतों से चुने गए । श्री विरदाराम फुलवारिया ने सन् 1980 में हुए लोकसभा चुनावों में जालोर (राजस्‍थान) से चुनाव लड़ा और भारी मतों से जीते । श्रीमती सुन्‍दरवती नवल प्रभाकर करोलबाग दिल्‍ली से लोकसभा की सदस्‍या रही है । रैगर सांसदों की सूची निम्‍नानुसार है-

 

क्र. सं. नाम क्षेत्र
1. श्री नवल प्रभाकर करोलबाग-दिल्‍ली
2. श्री धर्मदास शास्‍त्री करोलबाग-दिल्‍ली
3. श्रीमती सुन्‍दरवती नवल प्रभाकर करोलबाग-दिल्‍ली
4. श्री शिवनारायण सरसुणिया करोलबाग-दिल्‍ली
5. श्री विरदाराम फुलवारिया जालोर-दिल्‍ली

 

(साभार- चन्‍दनमल नवल कृत ‘रैगर जाति : इतिहास एवं संस्‍कृति’)

राजस्‍थान विधान सभा में रैगर जाति का प्रतिनिधित्‍व सदैव रहा है । नीचे दर्शाया गया है कि कौन व्‍यक्ति किस विधानसभा में किस पार्टी से चुनकर गया तथा किस क्षेत्र का प्रतिनिधित्‍व किया ।
                           

प्रथम राजस्‍थान विधान सभा 1952-1957

क्रमांक
 नाम
क्षेत्र  
पार्टी
1
श्री जयचन्‍द मोहिल बड़ी सादड़ी-कपासन कांग्रेस
2
श्री कंवरलाल जेलिया लाडपुरा (सु.) कांग्रेस
3
श्री प्रभूदयाल चुरू कांग्रेस

द्वितीय राजस्‍थान विधान सभा 1957-1962

क्रमांक
 नाम
क्षेत्र  
पार्टी
1
श्रीमती आनन्‍दी देवी जेलिया बारां (सु.) कांग्रेस
2
श्री हजारीलाल बाकोलिया केकड़ी (सु.) कांग्रेस
3
श्री जयचन्‍द मोहिल कपासन (सु.) कांग्रेस
4
श्री कान्‍हा शाहपुरा (सु.) कांग्रेस

तृतीय राजस्‍थान विधान सभा 1962-1967

क्रमांक
 नाम
क्षेत्र  
पार्टी
1
श्री जयनारायण सालोदिया निवाई (सु.) स्‍वतंत्र पार्टी
2
श्री विरदाराम फुलवारिया जालोर (सु.) कांग्रेस
3
श्री कानाभाई नुवाल शाहपुरा (सु.) कांग्रेस
4
श्री भानुप्रसाद कराड़़िया चौमू (सु.) स्‍वतंत्र पार्टी

चतुर्थ राजस्‍थान विधान सभा 1967-1972

क्रमांक
 नाम
क्षेत्र  
पार्टी
1
श्री चुन्‍नीलाल जेलिया खण्‍डार (सु.) स्‍वतंत्र पार्टी
2
श्री जयनारायण सालोदिया निवाई (सु.) स्‍वतंत्र पार्टी
3
श्री विरदाराम फुलवारिया जालोर (सु.) कांग्रेस
4
श्री परसराम परबतसर (सु.) स्‍वतंत्र पार्टी
5
श्री गणेशलाल पलिया गंगारार (सु.) कांग्रेस

पंचम राजस्‍थान विधान सभा 1972-1977

क्रमांक
 नाम
क्षेत्र  
पार्टी
1
श्री विरदाराम फुलवारिया जालोर (सु.) कांग्रेस
2
श्री भूरालाल शाहपुरा (सु.) कांग्रेस

षष्‍टम राजस्‍थान विधान सभा 1977-1980

क्रमांक
 नाम
क्षेत्र  
पार्टी
1
श्री चुन्‍नीलाल जेलिया खण्‍डार (सु.) जनता पार्टी
2
श्री जयनारायण सालोदिया निवाई (सु.) जनता पार्टी
3
श्री मांगीलाल गंगरार (सु.) जनता पार्टी

सप्‍तम राजस्‍थान विधान सभा 1980-1985

क्रमांक
 नाम
क्षेत्र  
पार्टी
1
श्री चुन्‍नीलाल जेलिया खण्‍डार (सु.) भारतीय जनता पार्टी
2
श्री छोगाराम बाकोलिया रेवदर (सु.) कांग्रेस
3
श्री छोगाराम कंवरिया दूदू (सु.) कांग्रेस
4
श्री धराराम फुलवारिया सिवाना (सु.) कांग्रेस

अष्‍टम राजस्‍थान विधान सभा 1985-1990

क्रमांक
 नाम
क्षेत्र  
पार्टी
1
श्री छोगाराम बाकोलिया रेवदर (सु.) कांग्रेस
2
श्री भूधरमल वर्मा दौसा (सु.) कांग्रेस
3
श्री मोहनलाल चौहान परबतसर (सु.) लोकदल
4
श्री गणपत राय दूदू (सु.) जनता दल

नवम राजस्‍थान विधान सभा 1990-1993

 

क्रमांक
 नाम
क्षेत्र  
पार्टी
1
श्री मोहनलाल चौहान परबतसर (सु.) जनता दल
2
श्री मांगीलाल गंगरार (सु.) भाजपा

दसम राजस्‍थान विधान सभा 1993-1998

शून्‍य

 

 

ग्‍यारहवीं राजस्‍थान विधान सभा 1998-2003

क्रमांक
 नाम
क्षेत्र  
पार्टी
1
श्री छोगाराम बाकोलिया रेवदर (सु.) कांग्रेस
2
श्री मोहनलाल चौहान परबतसर (सु.) कांग्रेस
3
श्री बाबुलाल सिंगारिया केकड़ी (सु.) कांग्रेस

बारहवीं राजस्‍थान विधान सभा 2003-2008

क्रमांक
 नाम
क्षेत्र  
पार्टी
1
श्री हीरालाल रैगर निवाई (सु.) भाजपा

 

तेरहवीं राजस्‍थान विधान सभा 2008-2013

क्रमांक
 नाम
क्षेत्र  
पार्टी
1
श्रीमती गंगा देवी जाटवा बगरू (जयपुर) कांग्रेस

चोदहवीं राजस्‍थान विधान सभा 2013-2018

क्रमांक
 नाम
क्षेत्र  
पार्टी
1
श्री राम चन्‍द्र सुनारी वाल डग (झालावाड़) बीजेपी
2
श्री हीरा लाल रैगर (जाबडोलिया) निवाई (सु.) बीजेपी

राजस्‍थान में प्रथम विधान सभा में सदस्‍यों की कुल संख्‍या 160 थी । द्वितीय विधान सभा में 176 तथा तृतीय विधान सभा में भी 176 थी । चतुर्थ विधान सभा में 184, पंचम में 184 त‍था षष्‍टम में भी कुल सदस्‍यों की संख्‍या 184 थी । सप्‍तम विधान सभा में 200 तथा बारहवीं विधान सभा की कुल सदस्‍य संख्‍या भी 200 है ।
श्री सूर्यमल मौर्य तथा श्री हजारीलाल पंवार अजमेर स्‍टेट विधान सभा के सदस्‍य रहे थे । श्री दयाराम जलुथरिया दिल्‍ली विधान सभा के सदस्‍य रह चुके हैं । श्री चम्‍पालाल आर्य (हिन्‍दूणिया) सन् 1962 से 1972 तक भारतीय जनसंघ पार्टी से सुवासरा क्षेत्र जिला मन्‍दसौर (मध्‍य प्रदेश) से तथा सन् 1977 में जनता पार्टी से सुवासरा क्षेत्र से एवम् 1980 से 1985 तक भारतीय जनता पार्टी से सुवासरा क्षेत्र से ही मध्‍य प्रदेश विधान सभा के सदस्‍य रहे है । इस तरह श्री चम्‍पालाल आर्य 4 बार विधायक रहे हैं । श्री सुरेन्‍द्र रातावाल जी दिल्‍ली ने 2008 में भारतीय जनता पार्टी से विधान सभा के सदस्‍य बनें ।

 

(साभार- चन्‍दनमल नवल कृत ‘रैगर जाति : इतिहास एवं संस्‍कृति’)