श्री छोगालाल कंवरिया

आपका जन्‍म प्रतापमल कंवरिया निवासी ब्‍यावर के घर 12 अप्रेल 1922 में हुआ । आपने बी.एस.सी. तथा एल.एल.बी. अजमेर से की । आप डिप्रेस्‍ड क्‍लास एशोसियेशन अजमेर के महांत्री रहे व अखिल भारतीय डिप्रैस्‍ड क्‍लास लीग व कांग्रेस के सदस्‍य रहे । 1952 में आपने राजस्‍थान प्रशासनिक सेवा में प्रवेश किया । 2 वर्ष तक तहसीलदार, 4 वर्ष तक मजिस्‍ट्रेट प्रथम श्रेणी, 5 वर्ष तक विकास अधिकारी, 7 वर्ष तक एस.डी.एम. 1 वर्ष उपनिदेशक स्‍वायत्‍तशासन, 2 वर्ष उपनिदेशक समाज कल्‍याण, 2 वर्ष विकास उपायुक्‍त, 1 वर्ष सैटलमेंट ऑफिसर, 1 वर्ष उप आयुक्‍त वाणिज्‍य (अपील) रहे । सभी पदों पर आपने बहुत ही कुशलतापूर्वक कार्य किया । 1977 में आपने स्‍वैच्छिक सेवा निवृत्ति ले ली और कांग्रेस (ई) के सक्रिय सदस्‍य बन गये । आप अमेजर जिला देहात कांग्रेस (ई) के महामंत्री रहे । 1980 में हुए विधानसभा चुनावों में आप दूदू (सु) क्षेत्र में कांग्रेस (ई) से राजस्‍थान विधानसभा के सदस्‍य चुने गये । 1981 में आप राजस्‍थान राज्‍य टेनेरीज लि. के अध्‍यक्ष रहे । आप राजकीय उपक्रम समिति के 1980 में सदस्‍य रहे । 1983-84 में सरकारी आश्‍वासनों सम्‍बंधी समिति के सदस्‍य रहे । 1983-84 में विशषाधिकार समिति के आप सदस्‍य रहे । चिकित्‍सा एवम् स्‍वास्‍थ्‍य, परिवार कल्‍याण, आयुर्वेद विभागों की संसदीय परापर्श समिति के आप सभापति रहे । 19-07-1981 से 16-10-1982 तक आप राजस्‍थान सरकार में चिकित्‍सा एवम् स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री रहे । आप अखिल भारतीय रैगर महासभा के अध्‍यक्ष भी रहे । आप राजस्‍थान में ही नहीं सम्‍पूर्ण भारत में पहले रैगर हैं जो विधायक से सीधे केबीनेट मंत्री बने । आपके मंत्री बनने से रैगर जाति का नाम ऊँचा हुआ है ।

(साभार- चन्‍दनमल नवल कृत ‘रैगर जाति : इतिहास एवं संस्‍कृति’)